• TECTONA GRANDIS (TEAK) सागौन:

    सागौन:  सगौन की दो प्रजाति टीशू कल्चर व  रुटकल्चर कम्पनी के पास उपलब्ध है, लकड़ी सभी पौधों से श्रेष्ठ होती है बल इसमें शाखाएं बहुत काम होती हैं जिससे पौधे को 35 प्रतिशत भोजन सीधे मिलता है।  इसकी लकड़ी मौजूदा समय में 2700 रुपया प्रतिघन फिट बिकती है। एक पेड़ से औसतन 10 घन फिट निकलती है। जिसकी औसतन कीमत 18000 से 20000 रुपया होती है। यह लकड़ी फर्नीचर के लिए सर्वोत्तम होती है।  टीशुकल्चर सागौन के पौधे का पहुँचता रेट Rs150.10 है तथा रुटकल्चर सागौन 100.10 रुपया प्रति पौधा की दर से कम्पनी दो साल की रिप्लेशमेन्ट गारंटी के साथ उपब्ध कराती है।

  • READ SANDAL (लाल चन्दन)

    लाल चन्दन को रक्त चंदन भी कहते हैं यह प्रजाति 15 से 17 साल में तैयार हो जाती है। इस प्रजाति के चन्दन के पेड़ से 25 से 35 किलो हार्ड बुड लकड़ी प्राप्त होती है।  एक चन्दन  के पेड़ से 4 से 6 लीटर तक तेल प्राप्त होता है, जिसकी मार्किट में कीमत 6200 रुपया प्रति लीटर है तथा एक किलो लकड़ी 5500 रुपये तक है।  लाल चन्दन 48˚c तापमान पर आसानी से जीवित रहता है।  इसके लिए 7 से 8.5 P. H. मान वाली मिट्टी उपयुक्त होती है।  एक एकड़ में 600 पौधे लगाए जाते हैं। पूर्ण रूप से तैयार लाल चन्दन का एक पेड़ से आज लगभग 80,000 रुपया से 140000 रुपया तक की आमदनी देता है. कम्पनी लाल चंदन के पौधे दो साल की रिप्लेशमेंट सर्विस के साथ प्रति पौधा RS. 525.10 है। 

  • MILIA DUBIA(मालावार नीम) :

    मालावार नीम :मालाबार नीम लकड़ी उत्पादन वाला पौधा होता है।  इसकी खेती सभी प्रकार की मिट्टी में आसानी से की जा सकती है। मालाबार नीम के पौधे में पानी की जरूरत काम होती है।  मालाबार नीम मालाबार नीम रोपण से 2 साल में 40 फिट तक ऊँचाई ले लेता है. यह पौधा 6 से 7 साल में तैयार हो तकर्क है। एक पौधे में 4 से 6 कुन्तल लकड़ी निकलती है।  जिसकी बाजार में मांग अधिक होने के कारण 1200 रुपया प्रति कुंतल बिकती है।  किसान एक पौधे से 5 से 6 हजार रुपया कमा सकता है।  इस लकड़ी का उपयोग फर्नीचर, एवं प्लाई बनाने में किया जाता है।   मालाबार नीम के एक पौधे की दो साल की रिप्लेशमेंट सर्विस के साथ RS. 150.10 में किसान को कम्पनी पहुंचता देती  है।  

  • MOHAGNI (मोहनी) :

    मोहनी अमेरिका का पौधा है, यह एक सीधे दानेदार, लाल-भूरे रंग की इमरती लकड़ी। है।  यह पर्यावरण के लिए सर्वाधिक उपयोगी है। इसकी लम्बाई 70 से 90 फिट के करीब होती है। एक औषधीय पौधा है। इसके पत्ते कैंसर, ब्लड प्रेसर, अस्थमा, सर्दी, मधुमेह सहित कई अन्य रोगों में उपयोग किया जाता है।  यह 5 साल में बीज देता है, एक पेड़ से 5 किलो बीज मिलते हैं।  इसके बीज  बाजार में एक हजार रुपये प्रति किलो की  बिकते हैं।  इसकी लकड़ी से पानी के जहाज, बाद्य यंत्र के अलावा फर्नीचर बनाने के काम आते हैं।  यह लकड़ी होलसेल में 2 हजार रुपया से 2200 रूपये प्रति घन फिट बिकती है।  इसका पौधे दो साल की रिप्लेशमेंट सर्विस के साथ RS. 149.10 मेंप्रति पौधा किसान को कम्पनी पहुंचता देती  है। 

  • EUCALYPTUS AGRO 553(नीलगिरि) :

    नीलगिरि AGRO 553 यूकेलिप्टस की इसे प्रजाति है, जो अन्य प्रजातियों की अपेक्षा सबसे जल्दी तैयार हो जाती है। इसके लिए बढ़िया जल निकासी की भूमि p. h. मान 6.५ से कम न हो उपयुक्त होती है। इसकी मुखय विशेषताएं इसके पौधे दो साल की रिप्लेशमेंट सर्विस के साथ RS. 51.9 0 में किसान को कम्पनी पहुंचता उपलब्ध कराती है। 

Your email address will not be published. Required fields are marked *